सभी से निवेदन है कि अपनी खुशियों को वर्तमान में सबसे अधिक पीड़ित, प्रताड़ित, भूखे प्यासे गोवंश के साथ जरूर बांटना। गोसेवा से व्यक्ति, समाज और राष्ट्र का उत्थान होता है। इस समय गोमाता की सेवा करने की भारी आवश्यकता है। गोसेवा में कमी के कारण ही गोवंश निराश्रित घूम रहा है और कसाई आसानी से उसे कत्ल खाने पहुंचा रहे हैं। इसलिए गौहत्या के पाप का भागीदार हर वो भारतीय है, जो गोसेवा से दूर है, जिसकी गोमाता की सेवा में कोई भागीदारी नहीं।